तीन तलाक पर मोदी सरकार की ऐतिहासिक, फैसला जाने क्या है ?

0
657

दोस्तों आपका फिर स्वागत है अच्छापोस्त में मै आज आपको बताने जा रहा हु| तीन तलाक पर मोदी सरकार को ऐतिहासिक फतह हासिल हुई है

तीन तलाक पर मोदी सरकार को ऐतिहासिक फतह हासिल हुई है, लोकसभा में कई संशोधन प्रस्ताव खारिज होने के बाद केंद्र का ‘मुस्लिम वीमेन प्रोटेक्शन ऑफ राइट्स ऑन मैरिज बिल’ आसानी से पास हो गया। दिनभर चली चर्चा के बाद बिल के पक्ष और विपक्ष में सदस्यों ने अपने अपने विचार रखे। सरकार की तरफ से जहां केंद्रीय कानून मंत्री ने बिल पेश करने के बाद मोर्चा संभाला वहीं विपक्ष की ओर से असदुद्दीन ओवैसी बिल के कई प्रावधानों का विरोध करते दिखाई दिए। उन्होंने इसे मुस्लिमों को जेल भेजने की साजिश बताया तो रविशंकर ने इस बिल को राजनीतिक चश्मे से न देखने की अपील की। इस दौरान ओवैसी ने बिल पर तीन संशोधन प्रस्ताव भी रखे। उन्हीं के साथ बीजू जनता दल के सांसद भ्रातृहरि महताब और कांग्रेस सांसद सुष्मिता देव का संशोधन प्रस्ताव भी वोटिंग में एकतरफा खारिज हो गए। इसके बाद बिल के पक्ष में हुई वोटिंग में यह आसानी से पास हो गया, इसकी घोषणा करते हुए लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने शुक्रवार तक के लिए लोकसभा स्‍थगित कर दी। वहीं लोकसभा से बिल पास होते ही देशभर में इसको लेकर प्रतिक्रियाओं का दौर शुरू हो गया। इसी के साथ ही देशभर में जश्न का दौर शुरू हो गया। देश के कई हिस्सों में पटाखे छुड़ाकर और मिठाई बांटकर बिल पास होने की खुशी मनाई गई।
इससे पहले आज सुबह बिल पर पाबंदी लगाने वाला ‘मुस्लिम वीमेन प्रोटेक्शन ऑफ राइट्स ऑन मैरिज बिल’ गुरुवार को लोकसभा में पेश हुआ। लोकसभा में कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सुप्रीम कोर्ट की ओर से तीन तलाक को गैरकानूनी करार दिए जाने की बात रखी और कहा कि तीन तलाक को लेकर लाया गया बिल महिलाओं की गरिमा से जुड़ा है। इसी दौरान केंद्रीय राज्यमंत्री एमजे अकबर ने कहा कि- एक मुस्लिम होने के नाते मैं यह बात रखना चाहता हूं कि इस बिल को लेकर जहर फैलाया जा रहा है कि इससे इस्लाम खतरे में है, इस्लाम नहीं मुस्लिम मर्दों की जबरदस्ती खतरे में है।  वहीं इससे पूर्व रविशंकर प्रसाद ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने भी तीन तलाक को गलत बताया है और ये उम्मीद थी कि शीर्ष अदालत के फैसले के बाद स्थितियां बदलेंगी, लेकिन फिर भी इससे जुड़े कई मामले सामने आए। इस बीच रविशंकर ने इस्लामिक देशों में बिल पर लगाए प्रतिबंधों का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान आतंकवादी देश है, लेकिन वहां भी तीन तलाक के खिलाफ कड़े प्रतिबंध लगाए गए हैं।  अफगानिस्तान, तुर्की, मिस्र, ईरान और बांग्लादेश में भी तीन तलाक के खिलाफ कदम उठाए गए हैं। इस्लामिक देशों ने तीन तलाक को रेगुलेट किया और कहा गया है कि अगर आपको अपनी पत्नी को तलाक देना है तो उसे पहले नोटिस दीजिए। साथ ही कोई इन नियमों का उल्लंघन करता है तो उसे एक साल की जेल का प्रावधान भी है।
 आपको इस पोस्ट की जानकारी अच्छा लगे तो इसे सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ ज्यादा share करें।

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here